अशोक का सातवाँ स्तम्भलेख

भूमिका

सप्तस्तम्भ लेखों में से सातवाँ स्तम्भलेख अशोक के अन्य स्तम्भलेखों में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है क्योंकि यह मात्र दिल्ली-टोपरा स्तम्भ पर ही अंकित है।

दिल्ली-टोपरा पर खुदे लेख अन्यत्र छः स्थानों से मिले स्तम्भलेखों में सबसे प्रसिद्ध स्तम्भ लेख है। यही एकमात्र ऐसा स्तम्भ हैं जिसपर सातों लेखों का एक साथ अंकन मिलता है। शेष पाँच पर मात्र छः लेख ही प्राप्त होते हैं।

मध्यकाल के प्रसिद्ध इतिहासकार शम्स-ए-शिराज़ के अनुसार यह स्तम्भ मूलतः टोपरा में था। इसे दिल्ली के सुल्तान फिरोजशाह तुगलक ने वहाँ से लाकर दिल्ली के फिरोजशाह कोटला में स्थापित करवा दिया था। तबसे इसको दिल्ली-टोपरा स्तम्भलेख के नाम से जाना जाने लगा। इस स्तम्भ के कुछ अन्य नाम भी हैं; यथा – भीमसेन की लाट, दिल्ली-शिवालिक लाट, सुनहरी लाट, फिरोजशाह की लाट आदि।

सातवाँ स्तम्भलेख : संक्षिप्त परिचय

नाम – अशोक का सातवाँ स्तम्भलेख या सप्तम स्तम्भलेख ( Ashoka’s Seventh Pillar-Edict )

स्थान – दिल्ली-टोपरा संस्करण। यह मूलतः टोपरा, हरियाणा के अम्बाला जनपद में स्थापित था, जिसको दिल्ली के सुल्तान फिरोजशाह तुग़लक़ ने दिल्ली के फिरोजशाह कोटला में स्थापित करवा दिया था। तभी से इसको दिल्ली-टोपरा स्तम्भ कहा जाने लगा।

भाषा – प्राकृत

लिपि – ब्राह्मी

समय – मौर्यकाल, अशोक के राज्याभिषेक के २६ वर्ष बाद अर्थात् २७वें वर्ष।

विषय – इस स्तम्भलेख में अशोक के विविध लोककल्याणकारी कार्यों की सूची मिलती है। यह अशोक के स्तम्भ लेखों में से सबसे बड़ा स्तम्भलेख है।

सातवाँ स्तम्भलेख : मूलपाठ [ दिल्ली-टोपरा संस्करण ]

१ – देवानंपिये पियदसि लाजा हेवं आहा [ । ] ये अतिकन्तं

२ – अन्तलं लाजाने हुसु हेवं इछिसु कथं जने

३ – धम्म-वढिया वढेया [ । ] नो चु जने अनुलुपाया धम्म-वढिया

४ – वढिया [ । ] एतं देवानंपिये पियदसि लाजा हेवं आहा [ । ] एस मे

५ – हुथा [ । ] अतिकन्तं च अन्तंलं हेवं इछिसु लाजाने कथं जने

६ – अनुलुपाया धम्म-वढिया वढेया ति [ । ] नो च जने अनुलुपाया

७ – धम्म – वढिया वढिया [ । ] से किनसु जने अनुपटिपजेया [ । ]

८ – किनसु जने अनुलुपाया धम्म-वढिया वढेया ति [ । ] किनसु कानि

९ – अभ्युंनामहेयं धम्म वढिया ति [ । ] एतं देवानंपिये पियदसि लाजा हेवं

१० – आहा [ । ] में हुथा [ । ] धम्म-सावनानि सावापयामि धम्मानुसथिनि

११ – अनुसासामि [ । ] एतं जने सुतु अनुपटीपजीसति अभ्युंनमिसति

१२ – धम्म-वढिया च वाढं वढिसति [ । ] एताये मे पठाये धम्म-सावनानि सावापितानि धम्मानुसथिनि विविधानि आनपितानि य [ था ] [ । ] मा पि बहुने जनसि आयता ए ते पलियोवदिसन्ति पि पविथलिसन्ति पि [ । ] लजूका पि बहुकेसु पान-सत-सहसेसु आयता [ । ] ते पि मे आनपिता हेवं च पलियोवदाथ

१३ – जनं धम्म-युतं [ । ] देवानंपिये पियदसि हेवं आहा [ । ] एतमेव मे अनुवेखमाने धम्म-थम्भानि कटानि धम्म-महामाता कटा धम्म [ सावने ] कटे [ । ] देवानंपिये पियदसि लाजा हेवं आहा [ । ] मगेसु पि मे निगोहानि लोपापितानि छायोपगानि होसन्ति पसुमुनिसानं अम्बा-वडिक्या लोपापिता [ । ] अढकोसिक्यानि पि मे उदुपानानि

१४ – खानापापितानि निंसिढया च कालापिता [ । ] आपानानि में बहुकानि तत तत कालापितानि पटी भोगाये पसु मुनिसानं [ । ] ल [ हुके ] [ सु ] एक पटीभोगे नाम [ । ] विविधाया हि सुखायनाया पुलिमेहि पि लाजीहि ममया च सुखयिते लोके [ । ] इमं चु धम्मानुपटीपती अनुपटीपजन्तु ति एकदथा मे

१५ – एस कटे [ । ] देवानंपिये पियदसि हेवं आहा [ । ] धम्म-महामाता पि मे ते बहुविधेसु अठेसु आनुगहिकेसु वियापटासे पवजीतानं चेव गिहिथानं चन [ च ] सव- [ पांस ] डेसु पि च वियापटासे [ । ] संघठसि पि मे कटे इमे वियापटा होहन्ति ति हेमेव बाभनेस आजीविकेसु पि मे कटे

१६ – इमे वियापटा होहन्ति ति निगंठेसु पि मे कटे इमे वियापटा होहन्ति नाना-पासण्डेसु पि मे कटे इमे वियापटा होहन्ति ति पटिविसिठं पटीविसिठं तेसु तेसु ते ते [ महा ] माता [ । ] धम्म-महामाता चु मे एतेसु चेव वियापटा सवेसु च अन्नेसु पासण्डेसु [ । ] देवानं पिये पियदसि लाजा हेवं आहा [ । ]

१७ – एते च अन्ने च बहुका मुखा दानविसगसि वियापटासे मम चेव देविनं च [ । ] सवसि च मे ओलोधनसि ते बहुविधेन आकालेन तानि तानि तुठायतनानि पटी [ — ] [ दयन्ति ] हिद चेव दिसासु च [ । ] दालकानां पि च मे कटे अन्नानं च देवि-कुमालानं इमे दानविसगेसु वियापटा होहन्ति ति

१८ – धम्मापदानठाये धम्मानुपटिपतिये [ । ] एस हि धम्मापदाने धम्मपटीपति च या इयं दया दाने सचे सोचवे मदवे साधवे च लोकस हेवं वढिसति ति [ । ] देवानंपिये [ पियदसि ] लाजा हेवं आहा [ । ] यानि हि कानिचि ममिया साधवानि कटानि तं लोके अनूपटीपन्ने तं च अनुविधियन्ति [ । ] तेन वढिता च

१९ – वढिसन्ति च मातापितिसु सुसुसाया गुलुसु वयो-महालकानं अनुपटीपतिया बाभन-समनेसु कपन-वलाकेसु आव दास-भटकेसु सम्पटीपतिया [ । ] देवानंपिये पियदसि लाजा हेवं आहा [ । ] मुनिसानं चु या इयं धम्मवढि वढिता दुवेहि येव आकालेहि धम्म नियमेन च निझतिया च [ । ]

२० – तत चु लहु से धम्म-नियमे निझतिया व भुये [ । ] धम्म नियमे चु खो एस ये मे इयं कटे इमानि च इमानि जातानि अवधियानि [ । ] अन्नानि पि चु बहुकानि धम्म-नियमानि यानि से कटानि [ । ] निझतिया व चु भुये मुनिसानं धम्म-वढि वढिता अविहिंसाये भूतानं

२१ – अनालम्भाये पानान [ । ] से एताये अथाये इयं कटे पुता-पपोति के चन्दम-सुलियिके होतु ति तथा च अनुपटीपजन्तु ति [ । ] हेवं हि अनुपटीपजन्तं हिदत-पालते आलधे होति [ । ] सतविसति-वसाभिसितेन मे इयं धम्मलिपि लिखापापिता ति [ । ] एतं देवानंपिये आहा [ । ] इयं

२२ – धम्मलिपि अत अथि सिला-थम्भानि वा सिला-फलकानि वा तत कटविया एन एस चिलठितिके सिया [ । ]

संस्कृत छाया

देवानांप्रिय प्रियदर्शी राजा एवमाह। वदतिक्रान्तमन्तरं राजानोऽभवन्तेवमैच्छन् कथं जनं धर्मवद्धिर्वर्धनीया। न तु जनेऽनुरूपया धर्मवद्धिर्वधिता। अत्र देवानां प्रियः प्रियदर्शी राजा एवमाह। एतन्ते भूतम्। अतिक्रान्तमनरमेवैमैच्छन् राजनः कथं जनेऽनुरूपा धर्मवद्धिर्वर्धनीयेति। न च जनेऽनुरूपा धर्मवद्धिर्वधिता। तत्केनस्थित् जनोऽनुप्रतिपद्यते केनस्थित् जनेऽनुरूपा धर्मवद्धिर्वर्धनीयेति। केनस्थि केषामभ्युमन्नमयेहं धर्मवद्धिमिति। अत्र देवानां प्रियः प्रियदर्शी राजैवमाह। एतन्मे भूतम्। धर्मश्रावणानि, श्रावयामि, धर्मानुशिष्टीरनुशास्मि। एतानि जन, श्रुत्वा अनुप्रतियत्स्यते, अभ्पुन्नस्यति धर्मवद्धिश्च वाढं वर्धिष्यते। एतस्मै मया अर्थाय धर्मश्रावणानि श्रावितानि धर्मानुशिष्टयो विविधा आज्ञापिताः। यथा मे पुरुषा अपि बहुषु जनेष्वायत्ताः, एते परितो वदिष्यन्त्यपि प्रविस्तारयिष्यन्तपि। रज्जुका अपि अपि बहुषुप्राणशत सहस्रेष्वायत्तास्तेऽप्याज्ञाता। एवं च एवं च परितो वदत जनं धर्मयुतम्। देवानां प्रियः प्रियदर्शी एवमाह। एतदेव मयानुतीक्षमाणेन धर्मस्तन्धाः कृता धर्ममहामात्राः कृताः धर्मश्रावर्ण कृतम्। देवानां प्रियः प्रियदर्शी राजैवमाह। मार्गेष्वपि मया न्यग्रोधा रोपिताश्छायोपगा भविष्यन्ति पशुमानुषाणाम् आम्रावाटिकारोपिताः। अर्थक्रोशकान्यपि मे उदपानानि खानितानि। निशागहाणि च कारितानि। आपानानि मया बहुकपानि तत्र तत्र कारितानि प्रतिभोगाय पशुमनुषाणाम्। लघुस्त स प्रतिभोगो नाम। विविधैर्हि सुखेः पूवैरपि राजभिर्मया च सुखितो लोकः। इमां तु धर्मानुप्रतिपत्तिमनुप्रतिपद्यतामिति एतदर्थ मयैत्कृतम्। देवानां प्रियः प्रियदर्शी एवमाह। धर्ममहामात्रा अपि मयैते बहुविधेष्व अर्थेष्व अनुग्रहिकेषु व्यापताः। ते प्रव्रजितेषु चैव गृहस्थेषु च सर्व पाषण्डेष्वपि च व्यापताः। संघार्थेऽपि मे कृते इमे व्यापता भवन्तीति। एवमेव ब्रह्मणेष्वाजीविकेष्वपि मे कृते इमे व्यापता भवन्ति। निर्ग्रन्थेष्वपि मे कृते इमे व्यापता भवन्ति। नाना पाषण्डेष्वपि मे कृते इमे व्यापता भवन्तीति। प्रतिविसष्टाः प्रति विसष्टास्तेषु तेषु ते धर्ममहामात्रास्तु मयैतेषु चैव व्यापताः सर्वेषु चान्येषु पान्डेषु। देवानां प्रियः प्रियदर्शी राजैवमाह एते चान्ये च बहवो मुख्या दानविसर्गे व्यापतास्ते मम चैव देवीनां च सर्वस्मिश्च ममावरोधने ते बहुविधिनाकारेण तानि तानि तुष्ट्यतानानि प्रतिपादयन्ति इह चैव दिशासु च। दारकाणामपि च मया कृता अन्येषां च देवीकुमाराणामिमे दानविसर्गेषु व्यापता भवन्तीति धर्मापदानार्थाय धर्मानुप्रतिपत्तये। एतद्धि धर्मापदानं धर्मप्रतिपत्तिश्च यदिदं दया दानं सत्यं शौचं मोद साधुता च लोकस्यैवं वधिष्यते इति। देवानाम् प्रियः प्रियदर्शी राजा एवमाह। यानि हि कानि चिन्मया साधूनि कृतानि तानि लोकः अनुप्रतिपन्नस्तानि चानुविदधाति। तेन वर्धिता च वर्धिष्यते च मातापित्रोः शुश्रूषा गुरुषु शुश्रूषा वयोमहतामनुप्रतिपत्ति ब्राह्मण श्रमणेषु कृपण वराकेषु यावद्दसभतकेषु संप्रतिपत्तिः। देवानां प्रियः प्रियदर्शी राजैवमाह। मनुष्याणां तु येयं धर्मवद्धिवर्धिता द्वाभ्यामेवाकराभ्यां धर्मनियमेन व निध्यात्या च। तत्र च लघुः स धर्मनियमो निध्यातिर्भूयसी। धर्मनियमस्तु खल्वेष यो मयायं कृत इमानि चेमानि जातान्यवध्यानि अन्येऽपि तु बहवोः धर्मनियमा मे मया कृता। निध्यात्यैव तु भूयो मनुष्याणां धर्मवद्धिधिता अविहिंसायै भूतानामनालम्भाय प्राणानाम्। तदेतस्मायर्थायेदं कृतं पुत्रं प्रपौत्रिकं चन्द्रमः सूर्यकं भवत्विति तथा चानुपद्यन्तामिति। एवं हि अनुप्रतिपद्यमानानामैहत्यं च पारत्र्यं चाराद्धं भवति। सप्तविंशतिवर्षाभिषिक्तेन मयेयं धर्मलिपिर्लेखितेति। एतद्वेवानां प्रिय आह। इयं धर्मलिपिर्यत्र सन्ति शिलास्तम्भा वा शिलाफलकानि वा तत्र कर्तव्या येनैषा चिरस्थितिका स्यात्।

हिन्दी अनुवाद

१ – देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने ऐसा कहा पुराने समय में जो

२ – राजा हुए उन्होंने इच्छा की कि किस प्रकार लोगों में

३ – धर्मवृद्धि बढ़े परन्तु धर्मवृद्धि अनुरूप

४ – न हुई। इस पर देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने इस प्रकार कहा। ऐसा मुझे

५ – लगा विगत काल में इस प्रकार राजाओं ने इच्छा की कि किस रीति से लोगों में

६ – अनुरूप धर्मवृद्धि हो किन्तु लोगों में अनुरूप

७ – धर्म की वृद्धि न हुई। तो किस विधि से लोग धर्म का अनुसरण करें?

८ – किस प्रकार लोगों में धर्मवद्धि अनुरूप बढ़े? किस प्रकार और किसकी

९ – धर्म की बाढ़ से उन्नति कराऊँ? इस पर देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने ऐसा

१० – कहा। ऐसा मुझे लगा कि लोगों को धर्म श्रावण सुनवाऊँ और धर्मानुशासन देने का

११ – आदेश दूँ कि लोग इसे सुनकर अनुसरण कर सके और अपनी उन्नति कर सके।

१२ – और इससे धर्मवद्धि द्वारा वे अत्यधिक बढ़ेंगे। इस प्रयोजन से मेरे द्वारा धर्मश्रावण सुनाये गये और विविध धर्मानुशासनों को आज्ञापित किया गया जिससे मेरे पुरुष भी जो बहुत से लोगों पर नियुक्त हैं चारों ओर धर्म को स्पष्ट करेंगे और फैलायेंगे। राजुक भी जो कई लाख प्राणियों पर नियुक्त हैं वे भी मेरे द्वारा आज्ञापित है कि इस-इस प्रकार

१३ – उपदेश दें। देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने इस प्रकार कहा। इसी को देखकर मेरे द्वारा धर्मस्तम्भ स्थापित किए गये, धर्ममहामात्र की नियुक्ति की गयी, धर्मश्रावण किया गया। देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने ऐसा कहा। मार्गों में मेरे द्वारा न्यग्रोध लगाए गये, पशुओं तथा मनुष्यों के छाया के लिए आम्रवाटिकायें लगवायी गयी हैं। आधे-आधे कोस पर कुएँ भी

१४ – खुदवाये गये, विश्राम गृह स्थापित किए गये पशुओं और मनुष्यों के उपयोग के लिए यहाँ वहाँ बहुत से प्याऊ मेरे द्वारा बनाए गये परन्तु यह आनन्द अत्यन्त निम्न प्रकार का है। लोग पूर्व राजाओं द्वारा तथा मेरे द्वारा विभिन्न प्रकार के सुख से सुखी बनाए गए हैं। लोग इस धर्माचरण का अनुसरण श्रद्धा और भक्ति से करें। मेरे द्वारा

१५ – ये सब किए गये। देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने ऐसा कहा। मेरे द्वारा धर्म महामात्र की नियुक्ति बहुविध लोककल्याणकारी कार्यों के लिए की गयी है। वे प्रति गृहस्थों और सभी धार्मिक सम्प्रदायों में नियुक्त है ये संघ के कार्यों के देखरेख के लिए मेरे द्वारा नियुक्त हैं। इसी प्रकार ब्राह्मणों तथा आजीविकों में

१६ – निर्ग्रन्थों में मेरे द्वारा ये व्याप्त हैं, अनेक धार्मिक सम्प्रदायों में भी मेरे द्वारा ये व्याप्त है। विविध श्रेणियों तथा बहुत से कार्यों के लिए अनेक महामात्र है किन्तु धर्ममहामात्र इनमें तथा अन्य सब सम्प्रदायों के लिए नियुक्त है। देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने ऐसा कहा

१७ – ये तथा अन्य बहुत से मुख्य कर्मचारी मेरे तथा देवियों के दान के विषय में नियुक्त है। सभी मेरे अन्तःपुर में रहने वाले विभिन्न प्रकार के दान के अवसर का उपयोग करते हैं यहाँ ( पाटलिपुत्र में ) और अन्य दिशाओं में ( राज्य के भाग में )। राजकुमारों के सम्बन्ध में भी तथा अन्य देवी कुमारों के दान-वितरण में ये नियुक्त हैं

१८ – धर्म के सत्कार्य के लिए और धर्म के प्रतिपादन के लिए। यह धर्मावदान और धर्मप्रतिपत्ति को उत्पन्न करता है, जो लोगों में दया, दान, सत्य, शुचि, मार्दव और साधुता के कारण बढ़ता है। देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने ऐसा कहा जो कुछ मेरे द्वारा साधुकार्य किया गया है उनका लोगों द्वारा आचरण किया गया है और अनुसरण किया गया है। उससे लोगों में बढ़ा है

१९ – और बढ़ेगा — माता-पिता की सुश्रूषा, गुरु-सुश्रूषा, वयोवृद्धों, ब्राह्मणों, श्रमणों कृपणों, निर्धनों, दास-भृतकों के प्रति उचित व्यवहार। देवताओं के प्रिय प्रियदर्शी राजा ने ऐसा कहा कि मनुष्यों में जो यह धर्मयद्धि हुई है वह दो कारणों से हुई है — धर्म नियमन और धर्म में ध्यान से।

२० – उसमें धर्म नियमन लघु महत्त्व का है जबकि गम्भीर ध्यान ही विशेष महत्त्व का है। धर्म नियम जो मेरे द्वारा इस प्रकार आज्ञाप्त किया गया यह है — ये जीव अवध्य हैं। अन्य भी बहुत से धर्म नियमन हैं जो मैंने बनवाये हैं। किन्तु ध्यान द्वारा ही मनुष्यों में अधिक धर्मवृद्धि हुई है जिसमें — जीवों की अहिंसा,

२१ – प्राणियों का अवध। इस प्रयोजन के लिए यह धर्मलपि उत्कीर्ण की गई है कि पौत्र प्रपौत्र के शासनकाल तक और सूर्य चन्द्र की स्थिति तक यह रहने वाली हो और लोग इसका अनुसरण करें। इस प्रकार इसके अनुसरण करने में ऐहिक और पारलौकिक कल्याण प्राप्त होता है। सत्ताइस वर्ष अभिषेक के बाद मेरे द्वारा यह धर्मलिपि खिवाई गई। इस पर देवताओं के प्रिय ने कहा

२२ – जहाँ शिलास्तम्भ या शिला फलक है उनपर यह धर्मनिपि उत्कीर्ण की जानी चाहिए जिससे यह चिरस्थायी हो सके।

टिप्पणी

अशोक के सभी स्तम्भ लेखों में सातवाँ स्तम्भलेख सर्वाधिक महत्त्व का है; परन्तु यह अन्य स्तम्भों पर उत्कीर्ण नहीं है। अर्थात् सातवाँ स्तम्भलेख लेख मात दिल्ली-टोपरा स्तम्भलेख पर ही अंकित है। यह एक प्रकार के विचारों का, जिसे उसने अभिलेखों में व्यक्त किया है, सार अथवा क्रमबद्ध आलेखन है।

इस लेख ( सातवाँ स्तम्भलेख ) में सम्राट अशोक ने यह जताने की चेष्टा की है कि उसके पूर्ववर्ती राजा भी इस बात के लिए प्रयत्नशील थे कि धर्म-वृद्धि हो परन्तु वे अपने कार्य में सफल न हो सके। इसलिए अशोक ने स्वयं उसके लिए उत्साह दिखाया और धार्मिक घोषणाएँ करने और धर्मानुशासन बरतने का निश्चय किया ताकि जनता उन्हें जान-सुनकर उनका अनुसरण करे। इसके लिए उसने राजकर्मचारी ( पुरुष ) और राजुक ( रज्जुक ) नियुक्त किये, धर्म-स्तम्भ स्थापित करवाये, धर्म-महामात्रों की नियुक्ति की, धर्म की घोषणा करायी ।

इसके साथ ही अशोक के सार्वजनिक हित के कार्यों किये का भी इस लेख ( सातवाँ स्तम्भलेख ) में विवरण मिलता है। इन कार्यों में उसने सड़कों पर छायादार वृक्ष लगाने, आधे-आधे कोस पर कुएँ खुदवाने, प्याऊ आदि स्थापित करने का उल्लेख किया है;

परन्तु साथ ही अशोक ने यह भी स्वीकार किया है कि वे कार्य महत्त्व के नहीं हैं। महत्त्व का कार्य तो धर्म का अनुसरण है। और उसके लिए उसने जो धर्ममहामात्र और अन्य विभागाध्यक्ष नियुक्त किये, उनके कार्य और अधिकारों का इस लेख में परिचय है। साथ ही धर्मवृद्धि के साधनों और धर्म-नियमों का भी उल्लेख है।

साथ ही सम्राट अशोक यह कामना करते हैं कि ऐसे कार्य निरंतर उसके बाद भी पुत्रों, पौत्रों द्वारा किये जाते रहें। और यह धर्मलिपि जहाँ भी शिलास्तंभ या शिलाफलक हो खुदवाकर चिरस्थायी बनाया जाय।

पहला स्तम्भलेख

दूसरा स्तम्भलेख

तीसरा स्तम्भलेख

चौथा स्तम्भलेख

पाँचवाँ स्तम्भलेख

छठवाँ स्तम्भलेख

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
%d